Savaal Hai (Poem)

दर वीरान है और दस्तक का सूना हाल है, शहर मे मकान तो है, पर घर का सवाल है| खुले उजाले मे बस्ते अंधेरे का ख़याल है, हँसना आता तो है, पर हँसी खिलने का सवाल है| रात को नींद नही पर दिन से लड़ने की मज़ाल है, सीने मे दिल तो है, पर धड़कन … Continue reading Savaal Hai (Poem)

Advertisements

How It Is Like..

They asked me, What is it like To be so afraid of betrayal, That you push everyone away? What is it like, To be so afraid of not fitting in, That you instigate your desolation? What is it like, To be so afraid of rejection, That you stop trying? What is it like, To be … Continue reading How It Is Like..

I Swear I Loved

In my dreams of fear, And in days that near, Within my nights of solitude, Beyond the reaches of my fortitude, Shatters my heart. And with every broken shard, I swear I loved From memories of hands grasped, To the empty handed truth, Far away from my clutches of reality, I reminiscise with wistful brutality, … Continue reading I Swear I Loved

Mile Jo Hum Kabhi (Poem)

मिले जो यूँ हम तुम फ़साने में, जानो अब बहुत हो चुका सबर चुप हो तुम, चुप हूँ मैं, अब हमें किसी और की क्या ख़बर! मिले जो लब कभी यादों में, जैसे लहर से लहर मिलती हो अगर, ख़ुश हो तुम, ख़ुश हूँ मैं, अब हमें चाहिए तो बस इक क़ब्र! मिले जो क़दम … Continue reading Mile Jo Hum Kabhi (Poem)