I Swear I Loved

In my dreams of fear, And in days that near, Within my nights of solitude, Beyond the reaches of my fortitude, Shatters my heart. And with every broken shard, I swear I loved From memories of hands grasped, To the empty handed truth, Far away from my clutches of reality, I reminiscise with wistful brutality, … Continue reading I Swear I Loved

Advertisements

Cemented

The night pours its dark ink, Onto the blank canvas of my day, Peace scampers in a blink, As I gaze through the grey. I fear the past aghast, And wish for a pleasant present. Yet the future approaches fast, As I stand stuck in cement. It isn't a night, they say; It is but … Continue reading Cemented

Mile Jo Hum Kabhi (Poem)

मिले जो यूँ हम तुम फ़साने में, जानो अब बहुत हो चुका सबर चुप हो तुम, चुप हूँ मैं, अब हमें किसी और की क्या ख़बर! मिले जो लब कभी यादों में, जैसे लहर से लहर मिलती हो अगर, ख़ुश हो तुम, ख़ुश हूँ मैं, अब हमें चाहिए तो बस इक क़ब्र! मिले जो क़दम … Continue reading Mile Jo Hum Kabhi (Poem)

Ek Khoj (Poem)

किसीसे मन की बात कहकर भी; तन्हाई का इक इक पल सताता है| भीड़ के बीच रहकर भी; मुझे अकेला रहना आता है| रहता है वो किसमे, कैसे, कहाँ; कौन जाने प्यार कहाँ बस्ता है? क्या अकेलेपन से भरे जहाँ मे; वो लूका छिप्पि खेल कर हस्ता है? ढूंढता हूँ उसे हर जगह; जला धूप मैं, … Continue reading Ek Khoj (Poem)